Wednesday, April 11, 2012

ख़ुशी की तलाश

जीवन में ख़ुशी कहाँ, ख़ुशी में जीवन ढूंढना,
स्थिति अपनी रही, यूँ ही आवारा घूमना I

                              आवारगी में आबरू बचाना मुश्किल,
                              क्या बद्दुओं में ख़ुशी मिलती है I

ख़ुशी बेशकीमती, मुंह छुपाये नहीं मिलती,
बिन जुबान को तो, दुआ भी नहीं मिलती I

                               ख़ुशी तो दिल में होती है, बंद कमरों कि तरह,
                               सड़क पर धूल में पड़ी भीख नहीं होती I

ख़ुशी तो पाक सौगात है, खैरात नहीं,
लेन-देन दोनों हैं, इक तरफा बात नहीं I

                               आवारा फिरने से, खाक मिली, राह नहीं,
                               ढूँढने को सौगात चले, दिल नहीं, कोई चाह नहीं I

राह में चलते गए, हर छोटी ख़ुशी चुनते,
और उन खुशियों की इक झीनी चादर बुनते I

                              राह की खुशियाँ कभी अपनी नहीं होती,
                              इनसे जीवन की कमी पूरी नहीं होती I

झीनी चादर ही रूह को गर्म कराती है,
आग की तपिश उसे सहन नहीं होती I

                             आग की तपिश ही सर्द जिस्म में अच्छी,
                             रूह की ठंढक क्या तब उष्म नहीं होती I

रूह को कम्पन से ख़ुशी मिलती है,
                            तन को गर्मी से सुकून मिलता है I
खाक में भी शरारा ढूंढना,
                            हर ख़ुशी में जीवन मिलता है I


२३/१०/२००२

No comments: